Saturday, November 26

आयुष्मान योजना का ऑनलाइन सर्वर डाउन-मरीज परेशान

आयुष्मान योजना का ऑनलाइन सर्वर डाउन-मरीज परेशान


हल्द्वानी
स्वास्थ्य विभाग की लाख कोशिशों के बाद भी मरीजों को बेहतर इलाज नहीं मिल पा रहा है। कभी सर्वर की खराबी तो कभी डॉक्टर्स की कमी से मरीजों का समय पर इलाज नहीं हो पा रहा है। बेस अस्पताल में आने वाले मरीजों को आयुष्मान कार्ड के माध्यम से मिलने वाली मुफ्त इलाज की सुविधा नहीं मिल पा रहा है। दूर दराज के क्षेत्रों से आए लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। देहरादून से आयुष्मान योजना का ऑनलाइन सर्वर डाउन होने को इसकी वजह बताया जा रहा है। इस वजह से मरीजों के कार्ड ऑनलाइन पोर्टल पर रजिस्टर नहीं हो पा रहे हैं।

मरीजों की निशुल्क पैथोलॉजी, रेडियोलॉजी जांचें और ऑपरेशन आदि नहीं हो पा रहे हैं। कुछ मरीज पिछले कई दिनों से अस्पताल में इलाज शुरू होने का इंतजार कर रहे हैं। बेस अस्पताल में सोमवार को सात ऐसे मरीज इमरजेंसी व वार्ड में लेटे थे। सिमलखेत अल्मोड़ा निवासी हयात राम ने बताया कि वह तीन दिन से इलाज की उम्मीद में यहां लेटे हैं। अस्पताल में आयुष्मान कार्ड का काम को देख रहे कर्मचारियों का कहना है कि वह मरीजों के नाम और कार्ड नंबर नोट कर रहे हैं। अगर सर्वर काम करने लगेगा तो मरीजों को सूचित किया जाएगा।

केस-1:सिमलखेत निवासी हयात राम को सांस की बीमारी है। हालत बिगड़ने पर शनिवार को बेटे राजेन्द्र और पत्नी के साथ इमरजेंसी में भर्ती हुए। आयुष्मान कार्ड के काम नहीं करने से इलाज नहीं हो पा रहा है। 
केस-2:नई बस्ती निवासी इस्तेखार हर्नियां से पीड़ित हैं। उन्होंने बताया कि इलाज कराने के लिए रविवार को अस्पताल में भर्ती हुए थे। आयुष्मान कार्ड नहीं चलने से उनका ऑपरेशन नहीं हो पा रहा है।
केस-3:मोटाहल्दू निवासी हेमा गंभीर रूप बीमार है। बीते रविवार से बेस अस्पताल की इमरजेंसी के बेड नंबर 3 पर लेटी हैं। मां पुष्पा ने बताया कि कार्ड नहीं चलने के चलते इलाज शुरू नहीं हो पा रहा है।

बीडी पांडे अस्पताल में बढ़ रही मरीजों की संख्या  
दीपावली की छुट्िटयों के बाद बीडी पांडे अस्पताल में सोमवार को मरीजों की बढ़ोतरी हुई है। मौसम परिवर्तन के कारण सर्दी, जुखाम और सिर दर्द के मरीज बढ़ रहे हैं। सांस और दमा के रोगियों की मुसीबत बढ़ती जा रही है। रेस्पिरेट्री वायरल (कोल्ड वायरल) भी लोगों के लिए मुसीबत बना हुआ है। रोजाना 200 से 400 मरीज बीडी पांडे अस्पताल में दिखाने आ रहे हैं।  बीडी पांडे अस्पताल पीएमएस डॉ. केएस धामी ने बताया कि अस्पताल में रेस्पिरेट्री वायरल (कोल्ड वायरल) के काफी मरीज आ रहे हैं। 
 

Leave a Reply

Your email address will not be published.