Tuesday, November 29

गोपालगंज जहरीली शराब कांड में मुख्‍य आरोपी संग आठ गिरफ्तार

गोपालगंज जहरीली शराब कांड में मुख्‍य आरोपी संग आठ गिरफ्तार


गोपालगंज
बिहार के गोपालगंज के महम्मदपुर थाने के महम्मदपुर गांव में जहरीली शराब पीने से हुई 20 लोगों की मौत मामले में मुख्य आरोपित समेत आठ आरोपितों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। इसकी जानकारी डीएम डॉ. नवल किशोर चौधरी व एसपी आनंद कुमार ने संयुक्त रूप से सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में दी। एसपी आनंद कुमार ने बताया कि जहरीली शराब की सप्लाई करने के मामले में मुख्य आरोपित को नगर थाने के नवादा मोड़ से गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार आरोपित गुड्डू साह के घर में शराब बेचकर रखे गए करीब साढ़े सात लाख रुपए भी बरामद किया गया है। वहीं इस मामले में जुड़े अन्य सात नामजद आरोपित भी पकड़े गए हैं। उधर, राज्‍य के कई जिलों में शराब कारोबारियों के खिलाफ पुलिस के कड़े तेवर देखने को मिल रहे हैं। कई जिलों में अभियान चलाकर पुलिस लगातार भट्ठियों को नष्‍ट कर रही है। छपरा की मढ़ौरा पुलिस ने रविवार को शराब माफिया के खिलाफ बड़ी करवाई करते हुए पांच चिन्हित गावों में छापेमारी की। इस दौरान पुलिस ने अलग-अलग स्थानों से करीब 280 लीटर अवैध देसी शराब बरामद किया है जबकि सैकड़ों लीटर अर्द्ध निर्मित देसी शराब को जमीन पर बहाकर नष्ट कर दिया। पुलिस ने इस दौरान अलग-अलग स्थानों से तीन शराब कारोबारी को गिरफ्तार भी किया है।

उधर, बिहार के समस्तीपुर जिले के शाहपुर पटोरी में जहरीली शराब का कहर थमने की बजाय बढ़ता ही जा रहा है। सोमवार को शराब पीने से बीमार पांच और लोगों को इलाज के लिए भर्ती कराया गया। इसमें से एक का पटोरी अस्पताल में, एक का हाजीपुर में और तीन का पटना में इलाज कराया जा रहा है। पटोरी एसडीओ मो. जफर ने बताया कि शराब पीने से धमौन गांव में पांच लोग बीमार हुए हैं। बीमार होने वालों में 18 साल से नीचे के लड़के शामिल हैं। उन्होंने बताया कि जहरीली शराब से मौत और लोगों के बीमार पड़ने के बाद पुलिस की कार्रवाई से बचने के लिए धंधेबाजों ने जहां-तहां नदी और चौर में शराब की बोतलें फेंक दी हैं। ग्रामीणों से मिली जानकारी के अनुसार, धमौन के समीप स्थित सिंघिया चौर में फेंकी गयी शराब का उक्त किशोरों ने सेवन किया था, जिससे सभी की तबीयत बिगड़ी। एसडीओ ने बताया कि नदी और चौर में शराब की तलाश शुरू करवा दी गयी है।
 

Leave a Reply

Your email address will not be published.