Friday, February 3

तीन माह से नही मिला कर्मचारियो को वेतन, कैसे मनायेगे दीपावली का पर्व

तीन माह से नही मिला कर्मचारियो को वेतन, कैसे मनायेगे दीपावली का पर्व


पिपरिया/पचमढी
संयुक्त सहायक संचालक उद्यान पचमढी में पिछले तीन माह से कर्मचारियों को वेतन नही दिया गया है। संस्थान कर्मचारियों के साथ अच्छा व्यवहार नही कर रहा है। वही कर्मचारियों से शासकीय समय से अधिक कर्मचारियों से कार्य करवाया जा रहा है अगर कर्मचारी कार्य करने से मना करते है तो उन्हे काम से निकालने की धमकी दी जाती है।

फिलहाल विभाग की इतनी खराब दुर्दशा है कि यहां कोई भी विभाग प्रभारी नही है। इससे पूर्व में विभाग के प्रभारी नरेंद्र सिंह तोमर रहे जिनके कार्यकाल में भी इसी तरह की वेतन की समस्याएं आती रहीं। जिन पर उनका जवाब यही रहता था कि उच्च अधिकारियों द्वारा वेतन दिया जाना बाकी है।  अधिकारी बदलते जा रहे हैं समस्या ज्यों की त्यों है। कर्मचारी बताते हैं की अच्छा रोजगार न होने के कारण हम यहां कार्य करने के लिए मजबूर  हैं। लेकिन संयुक्त सहायक संचालक उद्यान द्वारा हमारी मजबूरियों का गलत फायदा उठाया जाता है।

यह आम बात हो चुकी है कि तीन से चार महीना वेतन हमें नहीं दिया जाता इस पर हमने आलाकमान से लेकर प्रशासनिक अधिकारियों तक हमारी शिकायत पहुंचाई है। पर हमारी शिकायत का कोई भी निराकरण नहीं हुआ है । दीपावली का पर्व नजदीक है परंतु हमारे पास पैसे न होने के कारण हम यह पर्व कैसे मनाए। इस विभाग ने हमें बहुत प्रताडि़त कर रखा है विभाग के बाबू जो तनखा निकालने का कार्य करते हैं उन तक शिकायत करने पर यही जवाब मिलता है कि फिलहाल विभाग में कोई प्रभारी नहीं है जिसके कारण वेतन होना संभव नही है । हमें विभाग के अधिकारियों द्वारा लगातार धमकी दी जाती है कि हम अगर अपनी समस्याओं को लेकर मीडिया के पास गए तो हमे नौकरी से निकाल दिया जायेगा।

पचमढी में हमेशा व्हीआईपी का अना जाना लगा रहता है जिसके कारण हमें उनकी सेवा में लगा दिया जाता है। इस संबंध में क्षेत्रीय विधायक ठाकुरदास नागवंशी से चर्चा की तो उन्होने बताया कि आपके द्वारा मुझे समस्या से अवगत कराया गया है जल्द ही कर्मचारियों की समस्या का हल होगा वही दोषी अधिकारियों के खिलाफ कडी कार्यवाही की जायेगी। वही जब इस संबंध में संबंधित विभाग के बाबू उपेंद्रगिरी से फोन पर संपर्क किया तो उन्होने फोन नही उठाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.