Saturday, December 3

फोगाट बहनों पर रहेंगी निगाहें, बेटे के जन्म के तीन साल बाद वापसी कर रही हैं गीता

फोगाट बहनों पर रहेंगी निगाहें, बेटे के जन्म के तीन साल बाद वापसी कर रही हैं गीता


नई दिल्ली
तीन साल बाद प्रतिस्पर्धी कुश्ती में वापसी कर रही गीता फोगाट (59 किग्रा) और विश्व चैंपियनशिप की कांस्य पदक विजेता सरिता मोर के बीच संभावित मुकाबले पर सभी की निगाह होगी। इसके अलावा उनकी छोटी बहन और ओलंपिक के कांस्य पदक विजेता बजरंग पूनिया से शादी करने वाली संगीता फोगाट (62 किग्रा) ने भी बृहस्पतिवार से शुरू हो रही राष्ट्रीय कुश्ती चैंपियनशिप में दमदार प्रदर्शन करना चाहेंगी।

संगीता ने चोट के बाद हाल ही में वापसी की। वह हालांकि विश्व चैंपियनशिप से जल्दी बाहर हो गई। युवा सोनम मलिक कंधे की सर्जरी के बाद फिट नहीं हैं और 62 किग्रा वर्ग में उनकी कमी खलेगी। वर्ष 2018 में  बेटे अर्जुन के जन्म के बाद 32 वर्षीय गीता प्रतिस्पर्धी कुश्ती में वापसी कर रही हैं।

गीता अपने खेल को परखेंगी और उसके आधार पर 2024 पेरिस ओलंपिक में हिस्सा लेने के अपने लक्ष्य को हासिल करने की योजना बनाएंगी। राष्ट्रमंडल खेल 2010 की स्वर्ण पदक विजेता गीता की राह आसान नहीं होगी। वह लंबे समय बाद चुनौती पेश कर रही हैं। इस दौरान नए नियम लागू हुए हैं।

गीता की शुरुआत हालांकि अच्छी रही और राज्य ट्रायल में उन्होंने हरियाणा की चार पहलवानों को हराकर जीत दर्ज की। गीता की सबसे बड़ी प्रतिद्वंद्वी सरिता होंगी जिन्होंने पिछले महीने ओस्लो विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीता। विश्व चैंपियनशिप की रजत पदक विजेता अंशु मलिक और विनेश फोगाट भी चोट से उबर रही हैं और टूर्नामेंट में नहीं खेलेंगी।

पुरुष वर्ग में टोक्यो ओलंपिक के स्टार बजरंग, रवि दहिया और दीपक पूनिया नहीं खेलेंगे। इनकी गैरमौजूदगी में नरसिंह पंचम यादव (74 किग्रा) खुद को साबित करने को उत्सुक होंगे। डोपिंग के कारण चार साल के प्रतिबंध के बाद वापसी कर रहे नरसिंह नई दिल्ली में विश्व चैंपियनशिप के ट्रायल में हार गए थे। दीपक की गैरमौजूदगी में 86 किग्रा वर्ग में गीता के पति पवन सरोहा से अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद है। वह रेलवे का प्रतिनिधित्व करेंगे। गौरव बालियान (79 किग्रा) भी दावेदार होंगे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.