Friday, December 9

सरकारी योजना का लाभ उठाकर जितेन्द्र ने शुरू किया आॅनलाईन कम्प्यूटर सेंटर

सरकारी योजना का लाभ उठाकर जितेन्द्र ने शुरू किया आॅनलाईन कम्प्यूटर सेंटर


महासमुंद। महासमुन्द के शिक्षित बेरोजगार युवा श्री जितेन्द्र पहले अपने लिए नौकरी की तलाश कर रहे थे। किंतु इसमें सफलता नहीं मिल पाने के कारण उसने अपना व्यवसाय करने की सोची। लेकिन व्यवसाय हेतु आर्थिक स्थिति ठीक न होने के कारण इसमें दिक्कत आ रही थी। उन्हें राज्य और केन्द्र सरकार की शिक्षित बेरोजगार युवाओं के लिए खुद के व्यवसाय के लिए ऋण योजनाओं की जानकारी मिली। उन्होंने तत्काल प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम में अपने स्वयं के व्यवसाय हेतु आवेदन दाखिल किया। खुद का व्यवसाय कम्प्यूटर आॅनलाईन सेंटर हेतु बैंक से 5 लाख रुपए का ऋण लेकर अपना व्यवसाय शुरू किया। उन्होंने गूगल कम्प्यूटर सेंटर नाम से बीटीआई रोड, महासमुंद में शुरू किया। इसमें उन्हें सफलता मिली। पिछले ढाई-तीन वर्षों से वे कॉमन सर्विस सेंटर, सीएससी/च्वाइस सेंटर का सफलतापूर्वक संचालन कर रहे हैं। शुरूआत में उन्होंने अपने दोस्तों की मदद लेकर एक सेट कम्प्यूटर, प्रिंटर लेकर काम की शुरूआत की। शुरूआत में उन्हें थोड़ी दिक्कतों के साथ धीरे-धीरे सफलता मिलने लगी।

जितेन्द्र बताते है कि जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र के अधिकारियों का भरपूर का सहयोग मिला। ऋण फॉर्म भरने से लेकर आवेदन का निराकरण होने तक पूरा सहयोग किया। अब वे अपने आॅनलाईन दुकान से एडमिशन फॉर्म, परीक्षा फॉर्म, बिल पेमेंट, रोजगार से संबंधित फॉर्म, रिचार्ज बैंकिंग से जुड़े कार्य, बैंक खाता खोलना, पैसा निकालना, पैसा जमा करना, पैसा ट्रांसफर करना, हवाई जहाज टिकट बुकिंग, आधार कार्ड प्रिंट, पैन कार्ड बनाना, फोटो कॉपी करना, कलर प्रिंट करना आदि कार्य वे अपने दुकान से कर रहें हैं। वे बताते है कि राज्य सरकार की मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के बारें में भी जानकारी लेने लोग उनके दुकान पर आते है। श्री जितेन्द्र ने बताया कि किसी भी काम में उतार चढ़ाव आम बात है। हमारी दृढ़ इच्छाशक्ति प्रबल होनी चाहिए। शुरूआत में किसी भी काम में थोड़ी बहुत कठिनाई और दिक्कत अवश्य आती है। लेकिन सभी के सहयोग और मागदर्शन से उससे बाहर निकलकर आगे बढ?ा चाहिए। वे अपने शिक्षित युवा साथियों से भी कहना चाहते है कि वे राज्य और केन्द्र सरकार की योजनाओं का फायदा उठाकर अपना स्वयं का रोजगार स्थापित कर सकते है और दूसरों को भी रोजगार देने में मदद कर सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.