Saturday, December 3

अनुपस्थित रहे स्टूडेंट्स को भी दिए जा रहे हैं अंक, फर्जीवाड़ा कर रहा BU

अनुपस्थित रहे स्टूडेंट्स को भी दिए जा रहे हैं अंक, फर्जीवाड़ा कर रहा BU


भोपाल
बरकतउल्ला विश्वविद्यालय की सीमाओं में आने वाले निजी कॉलेजों ने प्रैक्टिकल में घालमेल किया है। उन्होंने बीयू द्वारा भेजे गए प्रोफेसरों को नजरअंदाज कर अपनी मर्जी के प्रोफेसरों को बुलाकर विद्यार्थियों को अंक देकर बीयू भेज दिए हैं। इस फर्जीवाड़े में बीयू के अधिकारी और कर्मचारी तक शामिल हैं। पूरी गड़बड़ी कुलपति प्रो. आरजे राव के नाक के नीचे होती रही और वे कोई कार्रवाई तक नहीं कर सके हैं।

बीयू की परीक्षाओं की परीक्षाओं में गड़बड़ी का एक नया फर्जीवाड़ा सामने आया है। इसमें विद्यार्थियों की अनुपस्थित होने के बाद भी उन्हें अंक देकर बीयू भेज दिए गए। बीयू कर्मचारी और अफसरों ने फर्जीवाडेÞ में भागीदारी कर उनके अंकों आधार पर उन्हें पास कर मार्कशीट तक जारी कर दी हैं।
   
जानकारी के मुताबिक प्रैक्टिकल लेने के लिए तीन से पांच प्रोफसरों के नाम का पैनल कुलपति प्रो. राव के पास भेजा गया। उनमें से किसी एक नाम को कुलपति राव ने अनुमोदित किया। इस संबंध में बीयू ने कॉलेज प्राचार्य या निदेशक के नाम से पत्र जारी कर दिया। प्राचार्य या निदेशक ने बीयू द्वारा भेजे गए प्रोफेसर को नजरअंदाज कर अपनी मर्जी के प्रोफेसर को बुलाकर प्रैक्टिकल कराकर उनके अंक प्रोमेट में भरकर बीयू भेज दिये। इसमें उनके द्वारा बुलाए गए प्रोफेसर के नाम और हस्ताक्षर तक करा दिये।

बीयू कुलपति राव द्वारा मनोनीत किए गए प्रोफेसर और प्रैक्टिकल लेकर अंक देने वाले प्रोफेसर के नाम और हस्ताक्षर अलग-अलग हैं। इसके बाद भी बीयू कर्मचारी और अधिकारियों ने उन्हें सही मानते हुए, उनके द्वारा जारी किए गए अंकों को लिखित परीक्षा के अंकों में समायोजित कर रिजल्ट जारी कर दिए गए।

एकेडमिक काउंसिल की बैठक में निजी कॉलेजों द्वारा किए गए फर्जीवाड़े के अलावा कर्मचारी और अधिकारियों मिलीभगत को एक प्रोफेसर द्वारा उठाया गया। काउंसिल ने उसे संज्ञान में लेना जरूरी ही नहीं समझा। बैठक में उक्त फर्जीवाडेÞ को तवज्जो नहीं मिली और उसे अधिकारियों द्वारा मिनिट्स तक में शामिल नहीं किया गया। इससे परीक्षा में फर्जीवाड़ा भविष्य में भी होने की पूरी उम्मीद है।

बरकतउल्ला विश्वविद्यालय में नवनियुक्त किये गये दो असिस्टेंट रजिस्ट्रार (एआर) के प्रभार में फेरबदल किया गया है। इसमें अभय गुप्ता को कुलपति प्रो. आरजे राव के निजी सचिव के पद से मुक्त कर दिया गया है। एआर गुप्ता अब परीक्षा शाखा के साथ-साथ यूएमएस, लोक सूचना अधिकारी एवं सीएम हेल्पलाइन एल-1 का कार्य देखेंगे। वहीं, पुनीत शुक्ला को परीक्षा शाखा से हटाकर कुलपति राव का सचिव नियुक्त किया गया है। इसके अलावा वे विकास शाखा आौर विधि प्रकोष्ठ का कार्य भी देखेंगे। वहीं तकनीकी सहायक अमरजीत सिंह गोपनीय शाखा से मुक्त कर लाईब्रेरी और लाईब्रेरी से कुशल स्थायीकर्मी विलास राव पाटिल को परीक्षा शाखा भेजा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.