Wednesday, July 24

उत्तर प्रदेश के पिछड़ी जाति के चंचल और मुखर नेता ओम प्रकाश राजभर के सुर एक बार फिर बदले लग रहे

उत्तर प्रदेश के पिछड़ी जाति के चंचल और मुखर नेता ओम प्रकाश राजभर के सुर एक बार फिर बदले लग रहे


बलिया
उत्तर प्रदेश के पिछड़ी जाति के चंचल और मुखर नेता ओम प्रकाश राजभर के सुर एक बार फिर बदले बदले लग रहे हैं। घोसी सीट पर बेटे की हार के बाद राजभर का बड़ा बयान सामने आया है। हार का ठीकरा ओम प्रकाश राजभर ने भारतीय जनता पार्टी पर ही फोड़ डाला है। सुभासपा के केंद्रीय कार्यालय रसड़ा पर एक समीक्षा बैठक के दौरान अपने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए ओपी राजभर ने कहा कि आप लोग भी बोलना सीखिए, हमारी पार्टी ईमानदारी से जहां जो लड़ा उसको वोट किया। गठबंधन के तमाम पार्टियों के नेता गठबंधन धर्म निभाना नहीं जानते, लेकिन हम लोगों ने ईमानदारी से गठबंधन का धर्म निभाया है, लेकिन जनता ने योगी और मोदी को नकार दिया है।

ऐसे लोगों को भी सबक सिखाने की जरूरत है…
इतना ही नही, राजभर ने कहा कि ऐसे लोगों को भी सबक सिखाने की जरूरत है। आप बोलना सीखो तब इनको समझ में आएगा अब तो हम पूरी बगावत करेंगे देखिएगा आगे हम मंच से ही बता देंगे कि किसको वोट देना किसको नहीं देना है। ऐसे लोगों की भी हम दवाई करने जा रहे हैं जो मंच पर लच्छेदार भाषण देते थे और गाड़ी में बैठकर अपने लोगों से कहते थे की इधर नहीं उधर वोट देना। ऐसे लोगों को भी हम लोग चिन्हित कर लिए हैं। हम ऐसे लोगों को खोज भी रहे हैं चाहे वह हमारा प्रधान हो, चाहे जिला पंचायत हो, चाहे कोई हो, चाहे अधिकारी हो, ऐसे लोगों को भी हम चिन्हित कर लिए हैं और दवाई करने जा रहे हैं।

'जब सैंया भए कोतवाल तो अब डर काहे का'
उन्होंने कहा कि आप लोगों से कहूंगा कि जब ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई हो तब आगे मत आना क्योंकि हो सकता है उसमें आपका रिश्तेदार भी हो उस समय मैं किसी की बात नहीं सुनूंगा। जब हमारी कलम चलेगी तो चलेगी जैसा जो किया है वैसा ओमप्रकाश राजभर देने की तैयारी में भी है और दूंगा और अभी 3 साल सत्ता में रहूंगा। सत्ता में रहकर ऐसा पावर बना लेंगे कि भारतीय जनता पार्टी से और सीट ले लेंगे। अब हम चाहते हैं कि कम से कम 25 से 30 सीट ले आएं, अब अगर कोई भी हमारा नेता अब दबा तो हम समझ लेंगे कि वह हमारा मुर्दा नेता है उसका नाम रख दिया जाएगा मुर्दा नेता। राजभर ने कहा कि 'जब सैंया भए कोतवाल तो अब डर काहे का' अब दिल खोल कर रहिये। कभी अपने मन में निराशा मत लाना आप काम करते जाइए हम सुबह उठकर जब महाराजा सुहेलदेव को याद करके कहते हैं कि माल आ जाए तो अपने आप माल आ जाता है। आप लोग भी ‌सुबह नहा धोकर महाराजा सुहेलदेव को याद करके माल मांगोगे तो मिल जाएगा और 'मांगो उसी से जो दे दे खुशी से और कहे ना किसी से।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *