Saturday, December 9

जमानत की शर्त का उल्लंघन व्यक्ति को पड़ा महंगा, दिल्ली HC ने दिया पशु देखभाल केंद्र में मुफ्त सेवा करने का निर्देश

जमानत की शर्त का उल्लंघन व्यक्ति को पड़ा महंगा, दिल्ली HC ने दिया पशु देखभाल केंद्र में मुफ्त सेवा करने का निर्देश


नई दिल्ली
दिल्ली हाईकोर्ट ने एक व्यक्ति को जमानत की शर्तों का उल्लंघन करने और राजधानी के बाहर यात्रा करने के लिए संजय गांधी पशु देखभाल केंद्र, राजा गार्डन, नई दिल्ली में तीन सप्ताह के लिए नि: शुल्क सेवा प्रदान करने का निर्देश दिया है। जस्टिस सिद्धार्थ मृदुल और अनूप जयराम भंभानी की डिवीजन बेंच ने एक आरोपी शाहरुख अली को संजय गांधी एनिमल केयर सेंटर में मुफ्त में सेवा देने का निर्देश दिया। शाहरुख अली जिसे 28 सितंबर 2020 के आदेश द्वारा नियमित रूप से सजा का निलंबन दिया गया था, उसने नियमित जमानत देने के लिए लगाई गई शर्तों में से एक का उल्लंघन किया है, अर्थात उसने दिल्ली से बाहर यात्रा की है, इस शर्त का उल्लंघन करते हुए कि सजा के निलंबन पर वह दिल्ली के राजधानी क्षेत्र (एनसीटी) वह नहीं छोड़ेगा।अदालत ने देखा कि आरोपी ने दिल्ली से बाहर यात्रा करने में जमानत की शर्तों में से एक का उल्लंघन किया है, उसने स्पष्ट रूप से स्वीकार किया है कि उसने रामपुर की यात्रा की, लेकिन उसके लिए उसने एक उचित कारण भी पेश किया था। इसके अलावा, अली ने सजा के निलंबन की अन्य सभी शर्तों का पालन किया है और कोई अपराध नहीं किया है, अदालत ने गौर किया और कहा कि वह अपीलकर्ता की जमानत रद्द करने का इच्छुक नहीं है।

अदालत ने कहा, "हालांकि, सजा के निलंबन की शर्त के उल्लंघन के प्रायश्चित करने के लिए हम अपीलकर्ता को संजय गांधी एनिमल केयर सेंटर, राजा गार्डन, नई दिल्ली (शिवाजी कॉलेज और दिल्ली होम गार्ड्स हेड ऑफिस के पास) में सेवा प्रदान करने का निर्देश देते हैं। 6 दिसंबर, 2021 से शुरू होने वाले तीन सप्ताह के लिए प्रत्येक कार्य दिवस में दोपहर 1-4 बजे के बीच, पशु देखभाल केंद्र के प्रमुख द्वारा उन्हें जो भी कार्य सौंपे जाते हैं, उन्हें पूरा करना होगा। अदालत द्वारा संजय गांधी पशु देखभाल केंद्र के प्रमुख को निर्देश दिया जाता है कि वह अपीलकर्ता को उक्त अवधि के दौरान उचित समझे जाने वाले कार्य सौंपें और अपीलकर्ता द्वारा इस आदेश के अनुपालन का संकेत देते हुए एक संक्षिप्त रिपोर्ट दाखिल करें। दिल्ली हाईकोर्ट ने इस संबंध में स्टेटस रिपोर्ट भी मांगी है और मामले को 7 फरवरी, 2022 के लिए सूचीबद्ध किया है। अदालत ने कहा कि अपीलकर्ता अली, जो व्यक्तिगत रूप से अदालत में मौजूद था उसने अब से सजा के निलंबन की सभी शर्तों का पालन ईमानदारी से और बिना किसी आपत्ति के किया।  अंडरटेकिंग स्वीकार की जाती है। अली ने रामपुर की यात्रा करने की बात स्वीकार करते हुए कहा कि उसने अपनी मां की इच्छाओं को पूरा करने के लिए एक निश्चित धार्मिक स्थल में जाने के लिए ऐसा किया था, जो चाहती थी कि बेटा जमानत पर रिहा होने पर वहां जाकर पूजा करे। जहां तक ​​शिमला की यात्रा करने के आरोप का संबंध है, अपीलकर्ता ने इसका खंडन करते हुए कहा कि शिकायतकर्ता द्वारा इस आशय की फाइल की गई तस्वीरें पुरानी हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *