Friday, February 23

अमेरिका ने कोरोना वैक्सीनेशन अभियान में एक कदम और बढ़ाते हुए बूस्टर शॉट्स को मंजूरी दी

अमेरिका ने कोरोना वैक्सीनेशन अभियान में एक कदम और बढ़ाते हुए बूस्टर शॉट्स को मंजूरी दी


 वाशिंगटन
अमेरिका ने कोरोना वैक्सीनेशन अभियान में एक कदम और बढ़ाते हुए बूस्टर शॉट्स को मंजूरी दे दी है। यूनाइटेड स्टेट्स फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) ने बुधवार (20 अक्टूबर) को मॉडर्ना और जॉनसन एंड जॉनसन द्वारा निर्मित कोरोना वायरस वैक्सीन की तीसरी खुराक (बूस्टर शॉट्स) के उपयोग को मंजूरी दे दी है। इसके साथ ही अमेरिका की सार्वजनिक स्वास्थ्य एजेंसी ने एक 'मिक्स एंड मैच' बूस्टर डोज की भी प्रशासन को भी मंजूरी दे दी है। अब अमेरिका में लोग बूस्टर के तौर पर किसी भी वैक्सीन का डोज ले सकते हैं। यानी अगर आपने वैक्सीनेशन की दोनों डोज किसी अन्य टीका का लगवाया है तो ये जरूरी नहीं कि बूस्टर डोज भी उसी वैक्सीन का हो। 

अमेरिका में बूस्टर डोज अब आप किसी भी कंपनी की वैक्सीन का ले सकते हैं। एफडीए ने एक प्रेस रिलीज में बूस्टर डोज के बारे में विस्तार से बताया है। जॉनसन एंड जॉनसन की कोरोना वैक्सीन की एक बूस्टर डोज 18 वर्ष और उससे अधिक उम्र के व्यक्तियों सिंगल शॉट्स मिलने के पूरा होने के कम से कम दो महीने बाद दी जा सकती है।

 मॉडर्ना वैक्सीन की तीसरी खुराक यानी बूस्टर डोज लेने के लिए फिलहाल व्यक्तियों की आयु 65 वर्ष और उससे अधिक होनी चाहिए, क्योंकि इस उम्र के लोगों में कोरोना संक्रमण का खतरा अधिक है। हालांकि मॉडर्ना कोविड-19 बूस्टर खुराक 18 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोगों को भी दी जा सकती है लेकिन वह फ्रंटलाइन वर्कर्स होने चाहिए। या फिर ऐसे लोगों को दी जा सकती है जो यूएस एफडीए की विज्ञप्ति के अनुसार कोरोना संक्रमण के उच्च जोखिम में हैं। मॉडर्ना वैक्सीन की तीसरी खुराक पात्र व्यक्तियों को स्वीकृत कोविड-19 वैक्सीन की पहली खुराक मिलने के कम से कम छह महीने बाद दी जानी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *