Friday, June 14

कोरोना के AY.4.2 वेरिएंट के भारत में अब तक 17 मामले की हुई पहचाने

कोरोना के AY.4.2 वेरिएंट के भारत में अब तक 17 मामले की हुई पहचाने


 नई दिल्ली 
एक ओपन-सोर्स GISAID पर अपलोड किए गए आंकड़ों के अनुसार, कोरोना का AY.4.2 वेरिएंट (डेल्टा प्लस) का स्ट्रेन भारत के कम से कम छह राज्यों में मिला है। अब तक देश में कुल 17 मामले दर्ज किए गए हैं। आपको बता दें कि यह डेटाबेस कोरोना वायरस वेरिएंट के जीनोमिक सिग्नेचर पर आधारित है। वहीं, केंद्र सरकार ने कहा है कि विशेषज्ञों का एक पैनल इस नए स्ट्रेन को देख रहा है। इस वेरिएंट के बारे में माना जाता है कि यह यूनाइटेड किंगडम में हालिया संक्रमण विस्फोट का प्रमुख कारक है। ब्रिटिश अधिकारियों ने माना है कि AY.4.2 संभवतः डेल्टा के सभी वेरिएंट में सबसे अधिक खतरनाक है। यह बहुत तेजी से फैलता है। हालांकि वर्तमान में इस बात का कोई सबूत नहीं है कि यह अधिक गंभीर बीमारियों का कारण बना या टीकों को अप्रभावी बना दिया।

इस सप्ताह की शुरुआत में दो संदिग्ध मामलों की पहचान की गई थी। नमूनों को जीनोम अनुक्रमण के लिए बेंगलुरु की एक प्रयोगशाला में भेजा गया था। GISAID पर उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, भारत में अब तक पाए गए AY.4.2 के 17 मामले सामने आए हैं। आंध्र प्रदेश में सात, केरल में चार, तेलंगाना और कर्नाटक में दो-दो और महाराष्ट्र और जम्मू-कश्मीर में एक-एक मामले सामने आए हैं।
 
AY.4.2 वेरिएंट क्या है?
न्यूकैसल में नॉर्थम्ब्रिया विश्वविद्यालय के मैथ्यू बैशटन और डैरेन स्मिथ ने कहा कि अब तक कोरोना वायरस के 75 AY वेरिएंट की पहचान की गई है। द कन्वर्सेशन में इनके बारे में बात करते हुए, दोनों ने कहा कि इनमें से एक वेरिएंट – AY.4 – पिछले कुछ महीनों में यूके में अनुपात में लगातार बढ़ रहा है। पिछले 28 दिनों में जो मामले सामने आए हैं, उनमें से 63 प्रतिशत इसी से जुड़े हैं।

क्या चिंतित होने की जरूरत है?
विशेषज्ञों का मानना ​​​​है कि यूनाइटेड किंगडम के अलावा इस स्ट्रेन की पहचान कहीं और नहीं हुई है। यह जर्मनी और आयरलैंड में रडार से बाहर हो गया है, हालांकि यह डेनमार्क में बना हुआ है। यह बताना अभी भी जल्दबाजी होगी कि क्या यह अगले प्रमुख वेरिएंट की शुरुआत है और इस प्रकार की प्रतिरक्षा से बचने की किसी भी क्षमता की प्रयोगात्मक कार्य द्वारा पुष्टि की जानी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *