Friday, June 14

सबसे बड़े आर्थिक संकट की चपेट में पड़ोसी -पाकिस्तान को कंगाल बनाकर ही मानेंगे इमरान

सबसे बड़े आर्थिक संकट की चपेट में पड़ोसी -पाकिस्तान को कंगाल बनाकर ही मानेंगे इमरान


 इस्लामाबाद 
नया पाकिस्तान का वादा कर सत्ता में आए इमरान खान ने पड़ोसी मुल्क का बेड़ा गर्क कर रखा है। पाकिस्तान अब तक के सबसे बड़े आर्थिक संकट से जूझ रहा है। इस आर्थिक संकट से उबरने के लिए आतंकियों को पहान देने के लिए जाने जाने वाले पाकिस्तान को 51.6 अरब अमेरिकी डॉलर की बाहरी मदद की जरूरत है। जिससे वह दो साल (2021-23) के वित्त वर्ष में अपने देश की मूलभूत जरूरतों को पूरा कर सके।

रिपोर्ट के अनुसार, अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की ओर से बहुत काट-छांट के आकलन करने के बाद भी खस्ताहाल पाकिस्तान की बाह्य वित्तीय आवश्यकताएं वर्ष 2021-22 में 23.6 अरब अमेरिकी डॉलर रही थीं। यह वित्त वर्ष 2022-23 में 28 अरब डॉलर हैं। पाकिस्तानी अधिकारी बाहरी वित्त पोषण आवश्यकताओं के अंतर को पाटने के लिए आईएमएफ के साथ एक कर्मचारी-स्तर के समझौते को अमलीजामा पहनाने के लिए अंतिम प्रयास कर रहे हैं।

मालूम हो कि हाल ही में विश्व बैंक की एक रिपोर्ट में बताया गया था कि पाकिस्तान विदेशी कर्जे में डूबे टॉप 10 देशों की सूची में शामिल हो गया है। इस रिपोर्ट में बताया गया कि अब पाकिस्तान डेबिट सर्विस सस्पेंशन एनीशिएटिव (डीएसएसआई) के दायरे में आ गया है। इसका मतलब यह हुआ कि पाकिस्तान पर अब इतना विदेशी कर्ज हो चुका है कि उसे अब उधार नहीं दिया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *