Saturday, February 4

आदिवासियों पर चल रहे सभी छोटे मुकदमे वापस लिए जायेंगे-CM Shivraj

आदिवासियों पर चल रहे सभी छोटे मुकदमे  वापस लिए जायेंगे-CM Shivraj


 खंडवा
 खंडवा लोकसभा उपचुनाव (Khandwa By Election) के लिए प्रचार करने गए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan) ने शनिवार को एक बड़ी घोषणा करते हुए कहा कि आदिवासियों पर चल रहे सभी छोटे मुकदमे  वापस लिए जायेंगे। उन्होंने कहा कि छोटे मोटे मुकदमों में आदिवासी पिस जाता है, कोर्ट, कचहरी, वकील के चक्कर में उसकी कमाई चली जाती है।  उन्होंने कांग्रेस पर भी करारा प्रहार किया।

खंडवा लोकसभा की नेपानगर विधानसभा के धूलकोट में आयोजित चुनावी सभा को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि आज सुबह साढ़े सात बजे मैंने पहली सभा की थी ये पांचवी सभा है।  बीच  में भोपाल भी गया और वहां जाकर 77 लाख किसानों के खाते में 1540 करोड़ रुपये की राशि डाली।

अब हम किसानों के खातों में पैसा डाल रहे हैं उधर कांग्रेस के पेट में दर्द हो रहा है , वो चुनाव आयोग में पत्र लिखकर इसे रोकने के लिए कह रहे हैं।  कमलनाथ ने जनता के हित की सभी योजनाएं बंद कर दी , हम किसानों, आदिवासियों, गरीबों का जीवन संवार रहे हैं उन्हें इसमें भी तकलीफ है।

मुख्यमंत्री ने पूर्व सांसद नंदकुमार सिंह चौहान को याद करते हुए कहा कि उन्हीं के प्रयासों से धूलकोट तहसील बन गया है।  उनके कोई भी अधूरे काम नहीं छूटेंगे , मैं उसे पूरा करूँगा।  नंदू भैया हमारा मान सम्मान अभिमान थे।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि नंदू भैया के मन में गरीब आदिवासी सबकी चिंता रहती थी क्योंकि भारतीय जनता पार्टी की सरकार भी इन सबकी चिंता करती है इसलिए सरकार ने फैसला किया है कि आदिवासियों पर दर्ज सभी छोटे मुक़दमे वापस लिए जायेंगे जिसे वे कोर्ट कचहरी वकीलों के चक्कर से मुक्त हो जाएँ।   उन्होंने कहा मैं  302 , 307 की बात नहीं कर रहा।  छोटे मुकदमों की बात कर रहा हूँ।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं आपसे अपील करने आया हूँ कि नंदू भैया के सहयोगी ज्ञानेश्वर पाटिल को विजय बनाकर भाजपा के हाथ और मजबूत कीजिये , क्योंकि कांग्रेस के पास कुछ बचा नहीं है इसलिए अपना वोट ख़राब नहीं करना कमल के फूल के सामने वाला बटन दबाना।  आपकी चिंता आपका मामा और भारतीय जनता पार्टी की सरकार करेगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.