Wednesday, April 17

मुख्यमंत्री चौहान ने लगाए सप्तपर्णी और मौलके पौधे

मुख्यमंत्री चौहान ने लगाए सप्तपर्णी और मौलके पौधे


भोपाल

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज स्मार्ट उद्यान में सप्तपर्णी और मौलके पौधे लगाए। माचिस के माध्यम से पर्यावरण संरक्षण और स्वच्छता का संदेश देने वाले, तीन बार के लिम्का बुक रिकॉर्ड होल्डर माचिस मेन सुनील भट्ट ने भी इस अवसर पर पौध-रोपण किया।

आगा क्लब के सुनील भट्ट के साथ विमल साहू और मनोज बुद्धि राजा भी इस अवसर पर उपस्थित थे। सुनील भट्ट के पास स्वच्छता और पर्यावरण विषय सहित अन्य प्रकार की 250 से अधिक माचिसों का संग्रह है। वे इन माचिसों की प्रदर्शनी से स्वच्छता तथा पर्यावरण के प्रति जागरूकता उत्पन्न करने के लिए अब तक 105 प्रदर्शनियाँ आयोजित कर चुके हैं। भेल में सब एडिशनल इंजीनियर के पद पर कार्यरत भट्ट 'माचिस मेन' के नाम से प्रसिद्ध है। वर्ष 2018 में टीवी कार्यक्रम "कौन बनेगा करोड़पति" में भी इनके कार्य की सराहना हुई है।

आगा क्लब पौध-रोपण के साथ-साथ स्वच्छता सहित प्लास्टिक और पन्नी मुक्त अभियान का भेल क्षेत्र में संचालन कर रहा है। आगा क्लब वरिष्ठ नागरिकों के लिए गतिविधियाँ संचालित करने के साथ ही खेलकूद, स्वास्थ्य, सुरक्षा और नशा-मुक्ति के क्षेत्र में भी सक्रिय हैं।

पौधों का महत्व

मौलको संस्कृत में केसव, हिन्दी में मोलसरी या बकूल भी कहा जाता है। यह औषधीय महत्व का वृक्ष है, जिसका सदियों से आयुर्वेद में उपयोग होता आ रहा है। सप्तपर्णी का पौधा सदाबहार औषधीय वृक्ष है, जिसका आयुर्वेद में बहुत महत्व है। इस पौधे का उपयोग विभिन्न औषधियों के निर्माण में किया जाता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *