Thursday, February 9

कोरियोग्राफर सरोज खान के शव को मालवनी कब्रिस्तान में दफनाया गया

कोरियोग्राफर सरोज खान के शव को मालवनी कब्रिस्तान में दफनाया गया


मुंबई. हिंदी फिल्म इंडस्ट्री की मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का 71 की उम्र में 2 जुलाई की देर रात दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वे कई दिन से बीमार थीं। हालांकि, उनका कोरोना टेस्ट निगेटिव आया था।  शुक्रवार सुबह 3 जुलाई को मलाड के मालवनी कब्रिस्तान में उन्हें सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया। सरोज के परिवार में उनके पति बी. सोहनलाल, बेटा हामिद खान, दो बेटियां हिना और सुकन्या हैं।

974 में आई गीता मेरा नाम पहली फिल्म थी, जिसमें सरोज खान ने कोरियोग्राफ किया था और आखिरी गाना पिछले साल 2019 में करण जौहर की फिल्म कलंक के लिए कोरियोग्राफ किया था। इसके बोल थे ‘तबाह हो गए’। इस गाने में भी उनकी फेवरेट एक्ट्रेस माधुरी दीक्षित नजर आईं थीं।

इस खबर के बाद से बॉलीवुड में शौक की लहर दौड़ गई है। क्योंकि उन्होंने अपने 40 साल के करियर में लगभग सभी बड़े सितारों के साथ काम किया था। अनुपम खेर ने ट्वीट करते हुए लिखा कि ” डान्स की मल्लिका #सरोजखान जी अलविदा।आपने कलाकारों को ही नहीं बल्कि पूरे हिन्दुस्तान को बहुत ख़ूबसूरती से सिखाया कि “इन्सान शरीर से नहीं, दिल और आत्मा से नाचता है”।आपके जाने से नृत्य की एक लय डगमगा जाएगी। मैं पर्सनली ना सिर्फ़ आपको, बल्कि आपकी मीठी डांट को भी बहुत मिस करूंगा।

वहीं, अमिताभ बच्चन ने लिखा है कि ‘हाथ जुड़े हैं , मन अशांत’।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.