Friday, February 23

जनजातीय गौरव संवाद कार्यक्रम में रोजगार के विकल्प पर सीएम ने दी जानकारी

जनजातीय गौरव संवाद कार्यक्रम में रोजगार के विकल्प पर सीएम ने दी जानकारी


 भोपाल
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि वे नशामुक्ति के पक्षधर हैं लेकिन आदिवासी समाज में परम्पराओं के आधार पर शराब बनाने की अनुमति देंगे। अगर शराब बनाने वाले ठेकेदार को छूट मिलती है तो गरीब को भी मिलनी चाहिए। इसके लिए आबकारी नीति में बदलाव किया जाएगा। उन्होंने रोजगार के विकल्पों का जिक्र करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना कल फाइनल हो जाएगी। इसमें पचास हजार से लेकर दो करोड़ रुपए तक लोन देने का प्रावधान किया जा रहा है। बैंक लोन देगा और इसकी गारंटी सरकार लेगी। इतना ही नहीं सब्सिडी के ब्याज की राशि भी सरकार भरेगा।  सीएम चौहान ने शनिवार को जनजातीय संग्रहालय में जनजातीय गौरव संवाद के दौरान ये बातें कहीं। उन्होंने कहा कि वे नशामुक्ति चाहते हैं पर इसके लिए सबको साथ आना होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि पेसा एक्ट भी हम चरणबद्ध तरीके से लागू करेंगे। इससे किसी को डरने की जरूरत नहीं है। ग्राम सभा को अधिकार मिलने चाहिए। ग्राम में होने वाली वनोपज का उपयोग और उसका अधिकार गांव के लोगों को मिले तो कोई बुराई नहीं है। हर काम के लिए भोपाल बुलाकर उसके केंद्रीयकरण को वे ठीक नहीं मानते हैं।

रानी दुर्गावती-टंट्या भील को श्रद्धांजलि
इसके पहले मुख्यमंत्री चौहान ने ‘जनजातीय गौरव संवाद’ कार्यक्रम में रानी दुर्गावती, शंकर शाह, बिरसा मुंडा, टंट्या भील, भीमा नायक और भारतमाता के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की। मुख्यमंत्री ने ‘जनजातीय गौरव संवाद’ कार्यक्रम में डॉ. रूप नारायण मांडवी, कालू सिंह मुजायदा, डॉ. दीपमाला रावत, अशोक शरण को तुलसी का पौधा और शाल भेंट कर अभिनंदन किया। कार्यक्रम में जनजातीय संस्कृति को प्रदर्शित करते हुए नृत्य संगीत के समायोजन की प्रस्तुति दी गई। साथ ही जनजातीय सामाजिक नेतृत्व, सामाजिक संघर्ष, उपलब्धि और भविष्य की कार्ययोजना पर विस्तृत चर्चा हुई।
पेसा एक्ट और वन अधिकार लागू करने पर मुख्यमंत्री की सराहना

इस कार्यक्रम में आदिवासी मंत्रणा परिषद के सदस्य कालू सिंह मुजायदा ने कहा कि जनजातीय समाज के लिए हमारे द्वारा चलाए जा रहे कल्याण आश्रम में मध्यप्रदेश सरकार सहयोग दे रही है। एक अन्य सदस्य डॉ महेंद्र चौहान ने कहा कि कोविड-19 महामारी काल में मुख्यमंत्री ने जनजातीय क्षेत्रों के अस्पताल के लिए आॅक्सीजन, पीपीई किट का कपड़ा, दवा आदि मुहैया कराई। डॉ रूप नारायण मांडवी ने कहा कि मुख्यमंत्री की बदौलत ही मध्यप्रदेश में ‘पेसा एक्ट’ और ‘वन अधिकार’ लागू हो पा रहा है। जल्द ही इसका क्रियान्वयन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जनजातीय समाज में होने वाली प्रमुख बीमारी सिकल सेल एनिमिया के प्रति मुख्यमंत्री ने संवेदशनशीलता दिखाते हुए इसके उपचार के इंतजाम किए हैं। इस दौरान अंतर्राष्ट्रीय चित्रकार रोशनी व्याम ने मुख्यमंत्री का धन्यवाद करते हुए कहा कि वर्ष 2008 में मेरे चित्रों को देखकर मुख्यमंत्री ने मुझे आगे बढ़ाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *