Thursday, February 29

किसान आश्वस्त रहें, हम पूरी ताकत से खाद की व्यवस्था में लगे हैं – मुख्यमंत्री चौहान

किसान आश्वस्त रहें, हम पूरी ताकत से खाद की व्यवस्था में लगे हैं – मुख्यमंत्री चौहान


भोपाल 
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि किसान आश्वस्त रहें, हम पूरी ताकत से खाद की व्यवस्था में लगे हैं और इसमें हमें भारत सरकार का पूरा सहयोग भी मिल रहा है। चिंता करने की आवश्यकता नहीं है, बस धैर्य रखें यह मेरा निवेदन है। कल मैंने किसान भाइयों को कहा था कि 31 अक्टूबर तक प्रदेश में 31 रैक आएगी। अब 31 की बजाय 32 रैक प्रदेश में आ रही हैं। मैं लगातार भारत सरकार के संपर्क में हूँ। आज भी आपूर्ति के संबंध में मैंने केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री मनसुख मांडविया से फोन पर चर्चा की है। उन्होंने नवंबर के लिए आश्वस्त किया है कि मध्यप्रदेश को आवश्यकता अनुसार यूरिया और डी.ए.पी. उपलब्ध कराया जाएगा। किसान भाइयों को परेशान होने की जरूरत नहीं है। मुख्यमंत्री चौहान निवास से प्रदेश में खाद की उपलब्धता की स्थिति की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव कृषि अजीत केसरी तथा अन्य अधिकारी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री चौहान ने समीक्षा के उपरांत मीडिया को जारी संदेश में यह बात कही।

बैठक में जानकारी दी गई कि केन्द्र द्वारा नवम्बर माह के लिए 6 लाख मीट्रिक टन यूरिया और 6 लाख मीट्रिक टन डी.ए.पी. की प्रदेश को आपूर्ति की जाएगी। अत: प्रदेश में खाद की कमी की स्थिति नहीं रहेगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि किसान भाई खाद की कमी की मानसिकता को छोड़ें। इसके परिणामस्वरूप अधिक खाद खरीदने की प्रवृत्ति बनती है। केन्द्र सरकार द्वारा नवम्बर माह में पर्याप्त खाद की आपूर्ति की जा रही है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कंट्रोल रूम बनाकर जिलों में खाद की आपूर्ति और न्यायपूर्ण वितरण की व्यवस्था पर लगातार निगरानी रखी जाए। जो जरूरत से अधिक खाद खरीद रहे हैं, उन पर नजर रखी जाए। कलेक्टर अपने स्तर पर लोगों को खाद की आपूर्ति और राज्य सरकार द्वारा की जा रही व्यवस्थाओं के संबंध में जागरूक करें। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जिला प्रशासन को कड़े निर्देश दिए गए हैं कि जो खाद की कालाबाजारी करेगा उसे रासुका में जेल भेजा जाएगा। खाद को ब्लैक में बेचने वालों को कुचल दिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *