Thursday, April 18

IMF के मुख्य आर्थिक सलाहकार का पद छोड़ेंगी गीता गोपीनाथ

IMF के मुख्य आर्थिक सलाहकार का पद छोड़ेंगी गीता गोपीनाथ


वॉशिंगटन
अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की मुख्य आर्थिक सलाहकार गीता गोपीनाथ अगले साल जनवरी माह में अपने पद से हट जाएंगी और एक बार फिर से हार्वर्ड यूनिवर्सिटी लौटेंगी। भारतीय-अमेरिकी अर्थशास्त्री गोपीनाथ ने जनवरी 2019 में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के मुख्य आर्थिक सलाहकार की जिम्मेदारी संभाली थी। इससे पहले वह हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में जॉन ज्वांस्त्रा प्रोफेसर ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज एंड इकोनॉमिक्स के पद पर थीं। आईएमएफ की मैनेजिंग डायरेक्टर क्रिस्टलीना जॉर्जिवा ने कहा कि जल्द ही गीता गोपीनाथ के उत्तराधिकारी के चयन की प्रक्रिय शुरू की जाएगी।
 
जॉर्जिवा ने कहा कि गीता गोपीनाथ का आईएमएफ के सदस्य के तौर पर बेहतरीन योगदान रहा है। उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान बेहतरीन छाप छोड़ी है। बता दें कि मैसूर की गीता गोपीनाथ आईएमएफ की पहली महहिला आर्थिक सलाहकार रही हैं। हार्वर्ड यूनिवर्सिटी ने गीता गोपीनाथ की छुट्टी को एक साल के लिए बढ़ाया था, जिसके चलते गीता गोपीनाथ ने आईएमएफ को अपनी सेवाएं तीन साल तक दी।

आईएमएफ ने कहा कि अपने कार्यकाल के दौरान गीता गोपीनाथ ने कई बेहतरीन योगदान दिए। इस दौरान वह महामारी पेपर की सह लेखिका रहीं। इस पेपर में कैसे कोरोना महामारी को खत्म किया जाए और वैश्विक स्तर पर किस तरह से कोरोना टीकाकरण के अभियान कोपूरा किया जाए की विस्तृत चर्चा की गई है। इसके साथ ही आईएमएफ में क्लाइमेट चेंज टीम के गठन और उसके विश्लेषण में भी गीता ने अहम भूमिका निभाई थी। जॉर्जिवा ने कहा कि मैं गीता के योगदान के लिए व्यक्तिगत रूप से धन्यवाद देना चाहता हूं, उनके सुझाव हमेशा ही बेहतरीन रहे, अपने मिशन और रिसर्च के प्रति वह हमेशा ही गंभीर थीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *