Friday, December 9

लोकायुक्त ने पंचायत की उपयंत्री को 4500 रुपये की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया

लोकायुक्त ने पंचायत की उपयंत्री को 4500 रुपये की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया


इंदौर
 लोकायुक्त पुलिस ने मंगलवार को जनपद पंचायत की उपयंत्री गीता विजयवर्गीय को उनके घर से 4500 रुपये की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया। उपयंत्री ने मकान का नक्शा पास कराने के लिए 5000 रुपये की रिश्वत की मांग की थी।

इंदौर बायपास स्थित ओमेक्स सिटी फेस वन निवासी अशोक शर्मा ने लोकायुक्त में शिकायत दर्ज करवाई थी, जिसके बाद पुलिस ने रणनीति बनाकर उक्त कार्रवाई की। अशोक शर्मा की शिकायत के अनुसार उन्होंने रंगवासा ग्राम पंचायत में राज लक्ष्मी पैलेस में लक्ष्मी वर्मा से जमीन खरीदी थी। इसी जमीन पर मकान बनाने के लिए पास जनपद पंचायत से नक्शा करवाना था। नक्शा पास करवाने के एवज में गीता विजयवर्गीय ने अशोक से 5000 रुपये की रिश्वत की मांग की थी। इस बात की शिकायत उन्होंने लोकायुक्त पुलिस से की। इसके बाद गीता और अशोक की बातचीत की रिकार्डिंग कराई गई। इसके आधार में 4500 रुपये देना तय हुआ था। लोकायुक्त ने रणनीति के तहत दल का गठन किया और गीता विजयवर्गीय के स्कीम नंबर 54 स्थित निवास पर रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा। उपयंत्री के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम (संशोधित) 2018 की धारा 7 के अंतर्गत कार्यवाही जारी है।

कोई रिश्वत मांगे तो यहां करें शिकायत

वकील संजय अरोरा के अनुसार रिश्वत लेना और देना दोनों अपराध है और दोनों में एक जैसी सजा का प्रविधान है। रिश्वत देने वाले को सात साल का कारावास हो सकता है या कोर्ट जुर्माना भी लगा सकती है। यदि आप से भी कोई सरकारी कर्मचारी किसी काम या किसी प्रकार का बिल आदि पास करने को लेकर रिश्वत की मांग करता है तो आप विशेष स्थापना लोकायुक्त पुलिस को शिकायत कर सकते हैं। संभायुक्त कार्यालय परिसर मोती बंगला में लोकायुक्त पुलिस अधीक्षक का कार्यालय है या फिर उनके नंबर 0731-2533160, 2430100 पर फोन करके भी रिश्वत लेने वाले सरकारी अधिकारी या कर्मचारी की शिकायत कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.