Saturday, March 2

वित्त वर्ष 2023 में भारतीय छात्रों को 1.40 लाख से अधिक वीजा जारी किए गए: अमेरिकी विदेश विभाग

वित्त वर्ष 2023 में भारतीय छात्रों को 1.40 लाख से अधिक वीजा जारी किए गए: अमेरिकी विदेश विभाग


वित्त वर्ष 2023 में भारतीय छात्रों को 1.40 लाख से अधिक वीजा जारी किए गए: अमेरिकी विदेश विभाग

न्यूयॉर्क
अमेरिकी विदेश विभाग ने घोषणा की कि भारत में अमेरिकी दूतावास और वाणिज्य दूतावास ने अक्टूबर 2022 से सितंबर 2023 तक एक लाख 40 हजार से अधिक छात्र वीजा जारी किए हैं।

विभाग ने  कहा कि अमेरिकी कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में अंतर्राष्ट्रीय छात्र देश की अर्थव्यवस्था में सालाना 38 अरब डॉलर तक योगदान देते हैं। सितंबर 2023 तक एक साल में छह लाख से अधिक छात्र वीजा जारी किए गए जो वित्त वर्ष 2017 के बाद से सबसे अधिक है।

जून-अगस्त 2023 के मुख्य छात्र वीज़ा सीज़न के दौरान, भारत भर में कांसुलर अधिकारियों ने एफ, एम और जे श्रेणियों में 95,269 वीज़ा जारी किए। यह इसी समय सीमा के दौरान 2022 की तुलना में 18 प्रतिशत की वृद्धि है।

ओपन डोर्स रिपोर्ट के आंकड़ों के अनुसार, 2009/10 के बाद पहली बार भारत अमेरिका में अंतर्राष्ट्रीय स्नातक छात्रों के दाखिले के मामले में चीन से आगे निकल गया।

भारतीय स्नातक छात्रों की संख्या 63 प्रतिशत बढ़कर 1,65,936 हो गई। यह पिछले वर्ष की तुलना में लगभग 64 हजार छात्रों की वृद्धि है जबकि भारतीय स्नातक छात्रों की संख्या में भी 16 प्रतिशत की वृद्धि हुई।

2023 के संघीय वित्तीय वर्ष में विदेश विभाग ने लगभग रिकॉर्ड स्तर पर गैर-आप्रवासी वीज़ा जारी किए – वैश्विक स्तर पर एक करोड़ से अधिक, और आधे अमेरिकी दूतावासों और वाणिज्य दूतावासों ने पहले से कहीं अधिक गैर-आप्रवासी वीज़ा जारी किए।

बयान में कहा गया है कि इसके अतिरिक्त, अमेरिकी दूतावास ने व्यापार और पर्यटन के लिए लगभग 80 लाख आगंतुक वीजा जारी किए, जो 2015 के बाद से किसी भी वित्तीय वर्ष की तुलना में अधिक है।

अंतर्राष्ट्रीय आगंतुकों ने अमेरिकी अर्थव्यवस्था में 239 अरब डॉलर का योगदान दिया और अनुमानित 95 लाख अमेरिकी नौकरियों में मदद दी।

विभाग ने कहा कि अस्थायी और मौसमी श्रमिकों को रिकॉर्ड तोड़ चार लाख 42 हजार वीजा जारी किए गए, जिससे कृषि और अन्य क्षेत्रों में श्रमिकों की आवश्यकता को संबोधित किया गया, जहां बहुत कम अमेरिकी श्रमिक उपलब्ध हैं।

भारत में अमेरिकी राजदूत एरिक गार्सेटी ने इस महीने की शुरुआत में कहा था कि भारत से वीजा जारी करने के लिए प्रतीक्षा समय को कम करने के लिए अमेरिका कर्मचारियों की संख्या बढ़ा रहा है और नए वाणिज्य दूतावास खोल रहा है।

उन्होंने यह भी कहा कि दूतावास के चालू कैलेंडर वर्ष में सामान्य से 10-15 प्रतिशत अधिक वीजा जारी करने की संभावना है, और हाल के सप्ताहों में भारत में जारी किए गए वीजा की संख्या भी एक तिहाई बढ़ गई है।

दक्षिण अफ्रीका के खदान में लिफ्ट टूटने से 11 मजदूरों की मौत, 75 घायल

जोहानिसबर्ग
 भारत में  जहां सुरंग में फंसे 41 श्रमिकों को जहां 17 दिन बाद सुरक्षित निकाला गया वहीं दक्षिण अफ्रीका के एक खदान में लिफ्ट टूटने से हुए हादसे में 11 मजदूरों की मौत हो गई है और 75 घायल हो गए हैं।

जानकारी के अनुसार दक्षिण अफ्रीका के रस्टनबर्ग में प्लेटिनम की खदान में मजदूरों को नीचे उतारने के दौरान एक लिफ्ट के अचानक टूटकर 650 फीट नीचे गिर गई। इस हादसे में 11 श्रमिकों की मौत हो गई और 75 घायल हैं। घायल श्रमिकों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

इंपाला प्लेटिनम होल्डिंग्स (इम्प्लांट्स) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी निको मुलर ने कहा कि यह उनकी कंपनी के इतिहास का सबसे भयावह दिन है। लिफ्ट अचानक से गिरने के कारणों का पता लगाने के लिए जांच शुरू हो गई है।

मुलर ने कहा कि हादसे के समय सभी खदान कर्मचारी लिफ्ट में ही थे। बता दें कि दक्षिण अफ्रीका प्लेटिनम का सबसे बड़ा उत्पादक देश है। इससे पूर्व 2022 में खनन ध्दुर्घटनाओं में 49 लोगों की मौत हुई थी।चीन के कोयला

खदान दुर्घटना में 11 की मौत चीन के उत्तर-पूर्वी हेइलोंगजियांग प्रांत में मंगलवार को एक कोयला खदान में चट्टान फटने से 11 खननकर्मियों की मौत हो गई।

स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, खदान का संचालन करने वाली शुआंग्यशान कोल कंपनी पर सुरक्षा नियमों का उल्लंघन करने के लिए पूर्व में 10 बार जुर्माना लगाया जा चुका है। इससे पहले सितंबर में खदान में आग लगने से 16 लोगों की मौत हो गई थी।

अमेरिका के प्रमुख उद्योगपति चार्ल्स टी. मुंगेर का 99 वर्ष की आयु में निधन

वाशिंगटन
 अमेरिका के प्रमुख उद्योगपति और बर्कशायर हैथवे के उपाध्यक्ष चार्ल्स टी. मुंगेर का 99 वर्ष की आयु में निधन हो गया। उन्होंने  कैलिफोर्निया के बारबरा सांता में अंतिम सांस ली। उनकी पहचान बर्कशायर हैथवे के संस्थापक वॉरेन ई. बफेट के प्रमुख साझेदार के रूप में होती है।

अमेरिका के प्रमुख अखबार द न्यूयॉर्क टाइम्स के अनुसार चार्ल्स टी. मुंगेर के निधन की घोषणा बर्कशायर हैथवे ने एक बयान में की। अखबार के मुताबिक इस कंपनी के लिए मुंगेर ने अपने कानून के करियर को छोड़कर रात-दिन एक कर दिया और न्यू इंग्लैंड टेक्सटाइल कंपनी को शानदार सफल निवेश फर्म बर्कशायर हैथवे में बदल दिया। उनका लॉस एंजिल्स में भी एक घर था।

द न्यूयॉर्क टाइम्स के अनुसार बर्कशायर के उपाध्यक्ष और अरबपति मुंगर को बर्कशायर हैथवे के निवेश दृष्टिकोण का प्रवर्तक माना जाता है। कहा जाता है 50 से अधिक वर्षों तक चली इस साझेदारी ने इतिहास में सबसे सफल और सबसे बड़े समूह में से एक का निर्माण किया। फोर्ब्स के मुताबिक, चार्ली दुनिया के अमीरों की सूची में 182वें नंबर पर थे। उनकी नेटवर्थ 2.6 अरब डॉलर थी। 2022 तक इसमें लगभग 372,000 कर्मचारी थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *