Tuesday, November 29

पूर्व सांसद प्रेमचंद गुड्डू की घर वापसी, बेटे समेत पूर्व सीएम कमलनाथ से की मुलाकात

पूर्व सांसद प्रेमचंद गुड्डू की घर वापसी, बेटे समेत पूर्व सीएम कमलनाथ से की मुलाकात


 पीसीसी दफ्तर में सज्जन सिंह वर्मा ने दिलाई सदस्यता, सांवेर सीट से लड़ सकते हैं उपचुनाव

भोपाल। पूर्व सांसद प्रेमचंद गुड्डू की आखिरकार घर वापसी हो गई। आज भोपाल में प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति, पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा, पीसी शर्मा और संगठन पदाधिकारियों की मौजूदगी में उन्हें पार्टी की दोबारा सदस्यता दिलाई गई। गौरतलब है कि 2018 के विधानसभा चुनाव से पहले टिकट नहीं मिलने से नाराज प्रेमचंद गुड्डू ने कांग्रेस पार्टी छोड़कर बीजेपी का दामन थाम लिया था। इसके बाद बीजेपी ने उनके बेटे अजीत बोरासी को घट्टिया सीट से टिकट दिया था लेकिन वो चुनाव हार गए। तभी से दोनों पिता-पुत्र पार्टी में उपेक्षित महसूस कर रहे थे।

प्रदेश में बदले राजनीतिक हालातों के बाद गुड्डू ने कांग्रेस में वापसी का मन बना लिया था क्योंकि कांग्रेस में एससी वर्ग के बड़े नेता रहे तुलसी सिलावट ने भाजपा ज्वाइन कर ली थी। लिहाजा गुड्डू के लिए एक बार फिर एससी वर्ग का चेहरा बनकर उभरने का ये सुनहरा मौका था। उन्हें बीजेपी ने पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते निष्कासित कर दिया था जिसे कोर्ट में चुनौती देने की बात भी गुड्डू ने कही है।

 

 

 

2018 में ज्वाइन की थी भाजपा

गुड्डू ने 2 नवंबर 2018 को दिल्ली में बीजेपी की सदस्यता ली थी । तब बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाई थी। हालांकि उन्हें 2019 के चुनाव में टिकट नहीं दिया गया था और तब से ही गुड्डू नाराज चल रहे थे।

 

 

सांवेर से लड़ सकते हैं उपचुनाव

तुलसी सिलावट के बीजेपी में जाने के बाद अब सांवेर सीट पर होने वाले उपचुनाव के मद्देनजर कांग्रेस को एक दमदार चेहरे की तलाश थी। ऐसे में एससी वर्ग का प्रतिनिधित्व करने वाले प्रेमचंद गुड्डू के तौर पर पार्टी की तलाश पूरी हो गई।

 

 

हालांकि गुड्डू इस सीट से दो बार (1998-2008)  विधायक चुने गए हैं। लेकिन इसके बाद गुड्डू ने 2009 में उज्जैन सीट से सांसद का चुनाव लड़ा था जिसमें उन्हें कामयाबी मिली। ऐसे में सांवेर सीट पर उनकी संभावित वापसी से यहां तुलसी सिलावट की मुश्किल बढ़ सकती है।

EDIT BY : DIPESH JAIN

Leave a Reply

Your email address will not be published.