Monday, April 15

जनसेवा, विकास और प्रगति की त्रिवेणी बनी विकास यात्रा : मंत्री डंग

जनसेवा, विकास और प्रगति की त्रिवेणी बनी विकास यात्रा : मंत्री डंग


भोपाल

पर्यावरण, नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा मंत्री हरदीप सिंह डंग ने कहा कि विकास यात्रा जनसेवा, विकास और प्रगति की त्रिवेणी है। करोड़ों रूपये के विकास कार्यों के लोकार्पण और शिलान्यास के कार्यों के साथ हितग्राहियों को विभिन्न योजनाओं का हितलाभ सुनिश्चित किया जा रहा है। डंग ने हितग्राहियों को संबल, लाड़ली लक्ष्मी, नामांतरण, पीएम किसान निधि और अन्य योजनाओं के स्वीकृति-पत्र वितरित किये। उन्होंने कहा असमय वर्षा और ओलावृष्टि से हुए नुकसान का सर्वें किया जा रहा है। किसानों को मुआवजा और फसल बीमा योजना का लाभ मिलेगा। जिले की 2374 करोड़ रूपये की चंबल परियोजना से खेतों तक भरपूर पानी पहुँचेगा।

मंत्री डंग ने कहा कि जन-प्रतिनिधि लोगों को केन्द्र और राज्य शासन की कल्याणकारी योजना से वाकिफ कराने के साथ योजना का लाभ उठाने के लिए प्रेरित भी कर रहे है। इससे विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में जीवनयापन उन्नत होगा। डंग ने ग्रामीणों से कहा मैं आपके परिवार का सदस्य हूँ। बेहिचक अपनी समस्याएँ बतायें।

मंत्री डंग ने 5 फरवरी को मंदसौर जिले के ग्राम सूठी से विकास यात्रा का शुभांरभ कर शक्करखेड़ी, कचनारा, नाहरगढ़, खजूरीचन्द्रावत, झालारा और कोटडाबहादुर गाँव का भ्रमण करते हुए ग्राम राणायरा में समापन किया। सोमवार 6 फरवरी को डंग ने ग्राम गुराडिया प्रताप से विकास यात्री प्रारंभ कर जमुनिया, धलपट, ढाबला महेश, प्रतापपुरा, बर्डीया गुर्जर और किशोरपुरा होते हुए ग्राम ढाबला भगवान में समापन किया।

मंत्री डंग ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास, आयुष्मान, पात्रता पर्ची, नि:शुल्क राशन, सामाजिक सुरक्षा पेशन, संबल योजना, लाड़ली लक्ष्मी, मुख्यमंत्री कन्यादान, तीर्थदर्शन आदि योजनाओं ने जन साधारण के जीवन को सुविधाजनक बनाया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में प्रदेश तेजी से तरक्की की राह पर आगे बढ़ी है।

विकास यात्रा में पूर्व विधायक राधेश्याम पाटीदार, जनपद पंचायत अध्यक्ष एवं सदस्य अधिकारी-कर्मचारी भी शामिल हुए। विभिन्न ग्रामों में ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री चौहान को विकास यात्रा के लिए धन्यवाद देते हुए इसे राज्य शासन का एक सराहनीय कदम बताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *