Monday, July 22

पीएम मोदी अगले हफ्ते इटली और यूके के दौरे पर जाएगे 

पीएम मोदी अगले हफ्ते इटली और यूके के दौरे पर जाएगे 


नई दिल्ली
भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अगले हफ्ते विदेश दौरे पर निकल रहे हैं। अपने पांच दिवसीय दौरे के दौरान प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी दो महत्वपूर्ण शिखर सम्मेलन, जी20 शिखर सम्मेलन और 26वें संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन (सीओपी26) के लिए इटली की राजधानी रोम और यूनाइटेड किंगडम के ग्लासगो का दौरा करेंगे। पीएम मोदी का विदेश दौरा पीएम मोदी 28 अक्टूबर को रोम के लिए रवाना होंगे और 30-31 अक्टूबर को होने वाले 16वें जी20 नेताओं के शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे। इसमें पीएम मोदी विश्व की सर्वाधित 20 शक्तिशाली अर्थव्यवस्था वाले देशों की बैठक में हिस्सा लेंगे और इस दौरान पीएम मोदी कई द्विपक्षीय बैठकों में हिस्सा लेंगे। 

इटली दौरे के दौरान भारतीय प्रधानमंत्री इटली के राष्ट्रपति से मुलाकात करेंगे। इस दौरान दोनों देशों के नेताओं के बीच कोरोना संकट, वैश्विक आर्थिक संकट और आर्थिक प्रभाव से निपटने पर चर्चा होगी। पिछले साल यह शिखर सम्मेलान सऊदी अरब की अध्यक्षता में वर्चुअल तरीके से हुआ था और कई सालों के बाद ये पहला मौका आया था, जब जी-20 शिखर सम्मेलन वर्चुअली कराया गया था। 

 हालांकि, जी-20 सम्मेलन के दौरान कुछ महत्वपूर्ण वैश्विक नेता उपस्थित नहीं होंगे। वो नेता जो इस सम्मेलन में व्यक्तिगत तौर पर शामिल नहीं होंगे, उनमें रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग, जापान के नए पीएम फुमियो किशिदा, दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा और मैक्सिकन राष्ट्रपति एंड्रेस मैनुअल लोपेज ओब्रेडोर शामिल हैं। जापानी पीएम और दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा उस दौरान देश में होने वाले चुनाव में व्यस्त रहेंगे, जबकि, रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन रूस में अचानक कोरोना वायरस संकट के बेकाबू होने की वजह से सम्मेलन में हिस्सा नहीं ले रहे हैं।

 त्रिपक्षीय बैठक होने की संभावना नहीं जापान, रूस और चीन के राष्ट्रपति का बैठक में शामिल नहीं होने का मतलब ये है कि इस बार जी-20 सम्मेलन में त्रिपक्षीय बैठकों का आयोजन नहीं होगा। इससे पहले जेएआई (जापान, अमेरिका, भारत) और आरआईसी (रूस, भारत, चीन) देशों के बीच त्रिपक्षीय बैठक का आयोजन किया जाता रहा है। यह परंपरागत रूप से G20 बैठकों के इतर प्रमुख बैठकों का एक हिस्सा बन गया था। 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *