Thursday, June 13

24 साल बाद दोबारा खुला बेटी की हत्या का केस, कोर्ट ने पुलिस को लगाई फटकार

24 साल बाद दोबारा खुला बेटी की हत्या का केस, कोर्ट ने पुलिस को लगाई फटकार


नई दिल्ली
अपनी उम्र के आखिरी पड़ाव पर चल रहे एक बुजुर्ग को बेटी को इंसाफ दिलाने के लिए लंबा संघर्ष करना पड़ा। हालांकि बुजुर्ग का यह प्रयास प्राथमिक स्तर पर है लेकिन इसे न्याय की तरफ पहला कदम जरूर कहा जा सकता है। दरअसल इस बुजुर्ग की बेटी की 24 साल पहले संदिग्ध अवस्था में उसके ससुराल में मौत हो गई थी। पिता लगातार इस मौत को हत्या बता विभिन्न मंचों पर सुनवाई की गुहार लगाता रहा। लेकिन उसकी किसी ने नहीं सुनी। पुलिस ने भी महज दहेज प्रताड़ना का मुकदमा दर्ज कर अपने कर्तव्य का निर्वाहन कर दिया। आरोपी बच निकले। लेकिन बुजुर्ग नहीं हारा। उसने फिर जिला न्यायाधीश के यहां याचिका दायर की और इस बार उसकी सुनी गई। तकरीबन ढाई दशक बाद जिला न्यायाधीश ने इस मुकदमे को दोबारा खोलने के निर्देश दिए हैं। द्वारका स्थित प्रिंसीपल जिला एवं सत्र न्यायाधीश नरोत्तम कौशल की अदालत ने पीड़िता की मौत को संदिग्ध करार देते हुए मुकदमे पर दोबारा सुनवाई के आदेश दिए हैं। अदालत ने कहा है कि इस मामले में उन साक्ष्यों की अनदेखी की गई जिसमें मृतका के मौत की वजह सीधेतौर पर संदिग्ध थी।

मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट की अदालत ने मृतका के ससुरालवालों के खिलाफ महज दहेज प्रताड़ना के मामले की सुनवाई की और उन्हें बरी कर दिया। जबकि यह मामला मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट की अदालत में सुना ही नहीं जाना चाहिए था। यही दलील मृतका के पिता ने भी लगातार विभिन्न अधिकारियों के समक्ष पेश की। परंतु उसकी अनेदखी की। अब जिला न्यायाधीश ने मृतका के ससुरालवालों को बरी करने के आदेश को रद्द करते हुए दोबारा सुनवाई शुरु करने आदेश दिए हैं। इस मामले में जिला न्यायाधीश ने सुनवाई करते हुए पाया कि पीड़िता की मौत के बाद उसका पोस्टमार्टम करने वाली डॉक्टर के बयान से साफ जाहिर था कि पीड़िता की मौत प्राकृतिक या आत्महत्या नहीं थी। उसके शरीर पर कई जगह चोट के गंभीर निशान थे।जबकि परिवार वालों का कहना था कि कूलर में आए कंरट की वजह से उसकी मौत हुई थी। अदालत ने पूरे तथ्यों को देखने के बाद कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पीड़िता के दोनों फेंफड़ों व सांस की नली में जमाव था।

इसके अलावा मृतका के मुंह, गर्दन व गर्दन के पीछे गहरे जख्म थे। पोस्टमार्टम करने वाली महिला डॉक्टर का कहना था कि ये करंट लगने की वजह नहीं हो सकते। यहां तक की उसने अपने बयानों में यह कहा कि पीड़िता की त्वचा की हिस्टोपैथोलॉजिकल जांच व इसके अलावा विसरा को संरक्षित किया गया है उससे ही मौत की वजह पता चलेगी। लेकिन पुलिस ने यह रिपोर्ट कभी अदालत के समक्ष पेश ही नहीं की।

 
इस मामले में ससुरालवालों का कहना था कि पीड़िता को पता था कि कूलर में करंट आ रहा है उसने फिर भी उसे छुआ जिसकी वजह से वह कूटर के स्टैंड की धारदार कोने से जा टकराई। जबकि घटना के समय पुलिस द्वारा लिए गए फोटो में दिख रहा है कि कूलर के स्टैंड पर मोटा कपड़ा पड़ा था। उस पर कोई खून का धब्बा नहीं था। अदालत ने कहा कि आरोपियों की यह दलील बेबुनियाद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *