Friday, June 14

छठ पर भाई ने साथियों संग मिलकर बहन के घर डाली डकैती, पहचान होने ससुर को मार डाला

छठ पर भाई ने साथियों संग मिलकर बहन के घर डाली डकैती, पहचान होने ससुर को मार डाला


दानापुर मनेर
महापर्व छठ पूजा के खरना के दिन पटना के मनेर के रेवा लीला टोला में डाली गई डकैती और गृहस्वामी की हत्या मामले की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। इस मामले में पुलिस ने मृतक उदय कुमार उर्फ उदय चौहान की बहू सुमित्रा देवी के भाई राहुल कुमार समेत चार आरोपितों को गिरफ्तार किया है, जबकि एक अन्य फरार है। पुलिस ने आरोपितों के कब्जे से लूटे गए 96 हजार रुपये नगदी समेत डेढ़ लाख के जेवरात बरामद किये हैं। पकड़े गए अपराधियों में सुमित्रा देवी का भाई राहुल कुमार, बांस घाट मंदिर निवासी मोहन मिश्रा और रूपसपुर के पाटलिपुत्र नहर निवासी मंगल कुमार व चंदन कुमार शामिल हैं। पुलिस के अनुसार, सुमित्रा के भाई राहुल ने ही अपने साथियों के साथ बहन के घर डकैती डाली थी। बहन के घर आने-जाने व बातचीत के दौरान भाई को पता चल गया था कि बहन के घर में अच्छी खासी रकम है और पैसे घर में ही रखे हैं। इसके बाद राहुल ने अपने साथियों के साथ ही बहन के घर में डकैती डालने की साजिश रची और डाका भी डाल दिया।   

पहचान होने पर बहन के ससुर को मार डाला
एएसपी सैयद इमरान मसूद ने बताया कि डकैती की यह वारदात 9/10 नंवबर को खरना की रात हुई थी। डाका डालने के दौरान गृहस्वामी उदय कुमार उर्फ उदय चौहान ने राहुल को पहचान लिया था। पहचान होने व पकड़े जाने के डर से राहुल ने पैर छूने के बहाने उदय कुमार का पैर पकड़ लिया जबकि उसके दोस्त राजू ने गला व तकिया से मुंह दबाकर गृहस्वामी उदय कुमार को मार डाला। उसके बाद बदमाश घर से जेवरात व नगदी लूटकर भाग गए।

घर में मिली रूमाल और चाबी से मिले सुराग
एएसपी ने बताया कि इस मामले को बेहद गंभीरता से लिया गया। लुटेरों को गिरफ्तार कर मामले का खुलासा करने के लिए टीम गठित की गई। अनुसंधानकर्ताओं में मनेर थानाध्यक्ष राजीव रंजन, पीएसआई धर्मेंद्र कुमार, सिपाही अनुज कुमार और सुरेश कुमार शामिल थे। जांच के दौरान जिस घर में डकैती डालकर गृह स्वामी की हत्या की गई थी, वहां एक रूमाल व चाबी का गुच्छा पड़ा मिला। मृतक की बहू ने रूमाल व चाबी अपने भाई राहुल कुमार की बतायी। लुटेरों तक पहुंचने में पुलिस के लिए यह सुराग अहम रहा। पुलिस ने शक के आधार पर जब राहुल को पकड़ा और सख्ती के साथ पूछताछ की तो उसने सब कुछ उगल दिया।  

घर में ही छिपा था राहुल
एएसपी सैयद इमरान मसूद ने बताया कि वारदात के बाद किसी को शक न हो, इसके लिए राहुल अपने पाटलिपुत्र आवास में ही छिपा था। उसका एक मकान रूपसपुर के टेस्ट लाल वर्मा में भी है। छापेमारी के दौरान राहुल कुमार के ही पाटलिपुत्र आवास से लूटी गई 96 हजार रुपये नगदी समेत डेढ़ लाख के जेवरात बरामद हुआ।

बहन से बातचीत में पैसों की मिली थी जानकारी
गिरफ्तार राहुल ने बताया कि उसकी दीदी से फोन पर बातचीत होती रहती थी। उसके घर भी आना-जाना था। बातचीत के दरम्यान दीदी ने घर में रुपए होने की बात बताई थी। उसके बाद हम लोगों ने रुपए लूटने की साजिश रचते हुए मोहन मिश्रा की बाइक और एक अन्य दोस्त राजू के साथ उसके घर पहुंचे और साजिश के तहत डकैती डाली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *