Thursday, April 18

डब्लूएचओ की चेतावनी नया कोविड वेरिएंट और अधिक घातक होगा

डब्लूएचओ की चेतावनी नया कोविड वेरिएंट और अधिक घातक होगा


जिनेवा
कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Disease) से पूरी दुनिया पिछले दो साल से परेशान है। समय-समय पर पैदा हो रहे कोरोना के नए वेरिएंट (Covid-19 Variants) संक्रमण की रफ्तार को लगातार बढ़ा रहे हैं। अभी दुनिया ओमीक्रोन (Omicron Symptoms) से ठीक तरह उबरी भी नहीं कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने नए वेरिएंट (Covid-19 New Variant) को लेकर चेतावनी जारी कर दी है। डब्लूएचओ (WHO Warning on Omicron) ने कहा कि ओमीक्रोन का बीए.2 सब वेरिएंट के वैश्विक स्तर पर फैलने की आसंका है। हालांकि, अभी यह स्पष्ट नहीं है कि नया सब वेरिएंट ओमीक्रोन से संक्रमित लोगों को फिर से चपेट में लेगा कि नहीं। डब्लूएचओ ने यह भी कहा है कि ओमीक्रोन के बाद भी कोरोना के कई नए वेरिएंट आ सकते हैं।

डब्ल्यूएचओ के कोविड-19 तकनीकी टीम का नेतृत्व करने वाली महामारी वैज्ञानिक मारिया वान केरखोव ने कहा कि बीए.2 सब वेरिएंट बीए.1 वेरिएंट की तुलना में अधिक संक्रामक है। अगले कुछ समय में यह कोरोना संक्रमण का प्रमुख कारण भी बन सकता है। गलवार को डब्ल्यूएचओ के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर किए गए लाइव स्ट्रीम के दौरान कहा कि बीए.2 वेरिएंट बीए.1 की तुलना में अधिक संक्रामक है। यही कारण है कि हम बीए.2 वेरिएंट के दुनिया में तेजी से फैलने का खतरा जता रहे हैं।

 

उन्होंने कहा कि डब्ल्यूएचओ यह देखने के लिए बीए.2 की निगरानी कर रहा है कि क्या सबवेरिएंट उन देशों में नए संक्रमणों की वृद्धि का कारण बनता है, जिनमें तेजी से वृद्धि देखी गई और फिर ओमिक्रॉन मामलों में तेज गिरावट आई। उन्होंने कहा कि शोध अभी भी जारी है, लेकिन दोनों में से किसी एक के कारण होने वाले संक्रमण की गंभीरता में अंतर का कोई संकेत नहीं है। हालांकि ओमिक्रॉन तेजी से फैलता है, यह अल्फा और डेल्टा वेरिएंट की तुलना में हल्के संक्रमण का कारण बनता है।

डेनमार्क में शोधकर्ताओं ने पाया है कि बीए.2 बीए.1 की तुलना में लगभग 1.5 गुना अधिक संक्रमणीय है और यह उन लोगों को संक्रमित करने में अधिक कुशल है जिन्हें टीका लगाया गया है और यहां तक कि बढ़ाया भी गया है। हालांकि, जिन लोगों को पूरी तरह से टीका लगाया गया है, उनमें असंक्रमित लोगों की तुलना में इसके फैलने की संभावना कम होती है। वैन केरखोव ने कहा कि टीके गंभीर बीमारी और मृत्यु को रोकने में अत्यधिक प्रभावी हैं, हालांकि वे सभी संक्रमणों को नहीं रोकते हैं। उन्होंने लोगों से टीकाकरण करने और घर के अंदर मास्क पहनने का आह्वान किया।

रिपोर्ट में कहा गया है कि डब्ल्यूएचओ के कोविड घटना प्रबंधक डॉ. आब्दी महमूद ने कहा कि यह स्पष्ट नहीं है कि बीए.2 उन लोगों को फिर से संक्रमित कर सकता है जिनको पहले बीए.1 था। यह जानकारी इस बात पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकती है कि वायरस कितना फैल सकता है। यूके में एक अध्ययन में पाया गया कि ओमिक्रॉन से संक्रमित होने वाले दो-तिहाई लोगों ने कहा कि उन्हें पहले भी कोविड था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *