Friday, February 23

सीएम शिवराज सिंह ने किया कोयला खदानों का शुभारंभ, 1 हजार लोगों को मिलेगा रोजगार

सीएम शिवराज सिंह ने किया कोयला खदानों का शुभारंभ, 1 हजार लोगों को मिलेगा रोजगार


भोपाल (न्यूज डेस्क) : मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने छिंदवाड़ा जिले में धनकसा और शारदा भूमिगत कोयला खदानों का ऑनलाइन शुभारंभ किया। इस दौरान वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से केन्द्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी और केन्द्रीय कोयला मंत्री प्रहलाद जोशी उपस्थित रहे। वहीं सीएम शिवराज सिंह ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को विशेष धन्यवाद देते हुए, केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी, केन्द्रीय मंत्री प्रहलाद जोशी और कोल इंडिया का आभार जताया। वहीं शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि इन दोनों कोयला खदानों के खुलने से प्रदेश में प्रगति का नया अध्याय प्रारंभ होगा। धनकासा खदान से 458 करोड़ और शारदा भूमिगत खदान से 57 करोड के केपिटल का इन्वेस्टमेंट की योजना है। दोनों खदानें 1.4 लाख टन सालाना कोयला उत्पादन करेंगी।

1 हजार लोगों को मिलेगा रोजगार

मध्यप्रदेश में 1 हजार से ज्यादा लोगों को इन दोनों भूमिगत कोयला खदानों से रोजगार मिलेगा। सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि पीएम नरेन्द्र मोदी के कोरोना संकटकाल में देश को लॉकडाउन और अन्य व्यवस्थाओं के माध्यम से लोगों को बचाने के बाद मंत्र दिया कि जान भी है और जहान भी है । इसका अर्थ है कि जीवन में आर्थिक गतिविधियों को शुरु करना होगा। जो कि देश की अर्थव्यवस्था के लिए अनिवार्य है। आगामी चार सालों में कोल इंडिया बीस खदानें शुरु करेगा। इनमें से 6 मध्यप्रदेश में शुरु होगी। शनिवार को चालू हुई दोनों खदानों के लिए सीएम शिवराज सिंह के पहले के कार्यकाल के दौरान प्रयास किए थे।

खनिज सम्पदा में आगे मध्यप्रदेश

मध्यप्रदेश कोयला उत्पादन में देश में चौथे स्थान पर है। प्रदेश में सालाना 239 मीलियन टन कोयले का उत्पादन होता है। जिससे प्रदेश को 2 हजार करोड़ रूपये का राजस्व प्राप्त होता है। प्रदेश के 6 जिलों छिंदवाड़ा, बैतूल, अनूपपुर, शहडोल, उमरिया और सिंगरौली में कोल इंडिया लिमिटेड कोयला खनन का कार्य करता है। प्रदेश में वेस्टर्न कोलफील्ड की 56 खदानों में से 23 भूमिगत और 23 ओपन हैं। इनमें कुल 16 खदानें मध्यप्रदेश में संचालित हैं । सीएम शिवराज ने कहा कि मध्यप्रदेश खनिज प्रधान राज्य है जहाँ हीरा, कोयला, मिथेन गैस,  लाईमस्टोन, कॉपर के भंडार है। जहाँ हीरा उत्पादन में मध्यप्रदेश सबसे प्रमुख राज्य है, वहीं मैग्जीन और कॉपर उत्पादन में दूसरे और कोयला उत्पादन में देश में चौथे स्थान पर है। राज्य के मुख्य खनिजों के उत्पादन बढ़ाने के भरसक उपाय किये जा रहे हैं।

EDIT BY: AMIT TIWARI

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *