Friday, February 23

वीडियो वायरल कर मुश्किल में पड़े दिग्विजय सिंह, पुलिस ने कई धाराओं में दर्ज किया केस

वीडियो वायरल कर मुश्किल में पड़े दिग्विजय सिंह, पुलिस ने कई धाराओं में दर्ज किया केस


सीएम शिवराज के कूटरचित वीडियो का मामला, क्राइम ब्रांच ने 12 लोगों को बनाया आरोपी

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के एक वीडियो को लेकर प्रदेश की सियासत गर्मा गई है।  दरअसल सीएम शिवराज का एक एडिट किया वीडियो सोशल मीडिया पर हो रहा था। इसे पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने भी अपने ट्वीटर एकाउंट से रीट्वीट किया था जिस पर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पुलिस को इस मामले में एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिये थे।  इस पर क्राइम ब्रांच ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह समेत 12 लोगों पर केस दर्ज किया है। भाजपा की शिकायत पर पुलिस ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया। खास बात ये कि पुलिस ने एक एफआईआर में 11 लोगों को आरोपी बनाया है, जबकि दूसरी एफआईआर में दिग्विजय सिंह आरोपी हैं।

भोपाल रेंज एडीजी उपेंद्र जैन  ने बताया कि दिग्विजय सिंह को मानहानि समेत अन्य धाराओं में आरोपी बनाया गया है। उनके खिलाफ पूर्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता, विश्वास सारंग, रामेश्वर शर्मा और जिलाध्यक्ष सुमित पचौरी समेत समेत कई नेताओं ने शिकायत की थी। ये वीडियो करीब 2 मिनट का था जिसे कांट-छांट करते हुए 9 सेकंड का बनाया गया था। और इस वीडियो के जरिए सीएम शिवराज की छवि धूमिल की जा रही थी। ये वीडियो उस समय का है जब प्रदेश में कमलनाथ सरकार थी और तब शिवराज सिंह ने गांव-गांव में शराब दुकान को खोलने का विरोध किया था।

इस कार्रवाई पर कांग्रेस विधायक और पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि दिग्विजय सिंह ने अपने ट्विटर पर इस वीडियो को रिट्वीट किया था और उन्होंने अपने अकाउंट से हटा लिया है तो उनके ऊपर किसी तरह की कार्यवाही उचित नहीं है। सरकार को इस बात की जांच करनी चाहिए कि वो वीडियो किसने बनाया।

वहीं दिग्विजय सिंह ने कहा कि राहुल गांधी के वीडियो भी इसी तरह एडिट कर वायरल किये जाते हैं उनके खिलाफ कोई कार्रवाई क्यों नहीं होती। उन्होंने कहा कि ये वीडियो जिसने बनाया उसके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।

वहीं गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि जिसने भी सीएम शिवराज की छवि खराब करने का प्रयास किया है उनके खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई होगी।

EDIT BY : DIPESH JAIN

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *