Wednesday, July 24

किसकी शह पर हो रहा शिव ‘राज’ में खेल, होर्डिंग में अब भी कमल ‘नाथ’ की सरकार

किसकी शह पर हो रहा शिव ‘राज’ में खेल, होर्डिंग में अब भी कमल ‘नाथ’ की सरकार


शिव ‘राज’ में कमलनाथ का प्रचार ! क्या कलेक्टर, कमिश्नर नहीं हैं जिम्मेदार ?

भोपाल । मध्यप्रदेश में सरकार बदले करीब ढाई महीने हो चुके हैं। सत्ता परिवर्तन के साथ ही वक्त है बदलाव का नारा देने वाली कमलनाथ सरकार भी बदल गई लेकिन प्रशासनिक लापरवाहियों का सिलसिला नहीं बदला। इसी का एक नमूना देखने को मिला राजधानी भोपाल में जहां पिपलानी थाना क्षेत्र में नगर निगम के स्मार्ट सिटी बस स्टॉप पर अभी भी कमलनाथ सरकार के होर्डिंग लगे हुए हैं।

‘द न्यूज हाउस’ के सवाल

राजधानी में अब भी लगा है कमलनाथ का होर्डिंग

किसकी है पूर्व सीएम के प्रति निष्ठा ?

क्या अफसर नहीं कर रहे हैं मनमानी ?

क्या सरकार की किरकिरी कराने वालों पर होगी कार्रवाई ?

आखिर ढाई महीने बाद भी कैसे लगे हैं कमलनाथ के होर्डिंग

तस्वीरों में आप देख सकते हैं कि किस तरह कमलनाथ सरकार की बिजली विभाग से जुड़ी योजना का प्रचार करने वाले होर्डिंग पूरे बस स्टॉप को ढांके हुए हैं। ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर जब पूरे प्रदेश में ताबड़तोड़ तरीके से ऐसे होर्डिंग बैनर हटा दिये गये थे तो फिर राजधानी भोपाल में ये होर्डिंग कैसे लगे हुए हैं। सवाल ये भी है कि इस लापरवाही के लिए आखिर कौन जिम्मेदार हैं। जब द न्यूज हाउस ने इस पूरे मामले की पड़ताल की तो जिम्मेदारों के नाम सामने आए।

कलेक्टर तरुण पिथौड़े

इनमें पहला नाम है कलेक्टर तरुण पिथोड़े का। आखिर कलेक्टर साहब पर जिम्मेदारी थी कि वर्तमान सरकार के लिए प्रतिबद्ध होकर काम करें लेकिन ये होर्डिंग तो कुछ और ही बता रहे हैं। खास बात ये है कि कलेक्टर साहब भोपाल में कमलनाथ सरकार से समय से पदस्थ हैं । ऐसे में सवाल उठता है कि क्या पूर्व की कमलनाथ सरकार के लगे होर्डिंग पर किसी की नजर नहीं गई या जानबूझकर इसे अनदेखा किया गया।

 

 

निगमायुक्त बी विजय दत्ता

दूसरे जिम्मेदार के तौर पर निगमायुक्त बी विजय दत्ता का नाम सामने आता है। क्योंकि जिस स्टॉप पर ये होर्डिंग लगे हैं वो नगर निगम के अंतर्गत आते हैं। तो सवाल है कि इस घोर लापरवाही के लिए इन्हें जिम्मेदार क्यों न माना जाए । जिनकी लापरवाही से शिवराज सरकार में भी कमलनाथ सरकार की योजना का प्रचार किया जा रहा है। अब अगर इस लापरवाही के लिए कोरोना संकट की आड़ ली जाए तो बेईमानी होगी। क्योंकि इसी दौर में प्रदेश के ज्यादातर हिस्सों से कमलनाथ सरकार के होर्डिंग, बैनर, पोस्टर हटा दिये गए तो फिर राजधानी भोपाल में सरकार को मुंह चिढ़ाते ये होर्डिंग कैसे लगे रहे।

 

 

 

पिपलानी का सिटी बस स्टॉप

विश्वास सारंग ने मानी गंभीर लापरवाही

इस बारे में द न्यूज हाउस ने पूर्व मंत्री और बीजेपी विधायक विश्वास सारंग से सवाल पूछा तो उन्होंने इंसे गंभीर लापरवाही माना और कहा कि इस गलती के दोषियों पर तत्काल कार्रवाई होनी चाहिए। खैर अब देखना ये है कि शिवराज सरकार इस गलती पर जिम्मेदारों को क्या सजा देती है। अगर सरकार ऐसा नहीं कर पाती है तो फिर सरकार की नाक के नीचे कमलनाथ के होर्डिंग नहीं हटाने वालों के हौसले जरुर बुलंद हो जाएंगे।

 

 

 

EDIT BY: DIPESH JAIN

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *